CBSE और ICSE Board क्या है तथा दोनों में क्या अंतर है?

BCSE और ICSE Board Kya Hai: अपने इस दोनों शिक्षा बोर्ड के बारे में तो जरूर सुने होंगे। दोनों बोर्ड भारत की Best Education Board में से गिनी जाती है। आज की इस पोस्ट में जानेंगे की CBSE और ICSE Board क्या है तथा दोनों में क्या अंतर है.

सभी का सपना होता है कि हम भी इन दोनों बोर्ड में से किसी एक बोर्ड में पढ़े। दोस्तो आज हम CBSE और ICSE बोर्ड के बारे में सम्पूर्ण जानकारी लेकर आये है। हम हम जनेंगें की CBSE क्या है और CBSE का फुल फॉर्म क्या होता है। साथ ही ICSE क्या है और इसकी फुल फर्म क्या होती है। साथ ही आज हम ये भी सिखेंगे की CBSE और ICSE बोर्ड में क्या अंतर है।

CBSE और ICSE Board क्या है तथा दोनों में क्या अंतर है?

दोस्तो ये दोनों बोर्ड उच्च क्वालिटी की शिक्षा प्रदान करने वाली बोर्ड में शामिल किया गया है। ई। इन दोनों बोर्ड में भारत की सबसे पॉपुलर बोर्ड है जो बहुत ही अच्छी शिक्षा (Education) देती है। साथ ही ये दोनों बोर्ड में पढ़ाई करने के लिए अलग से ज्यादा फीस देना होता है जबकि अन्य किसी भी राज्यो की बोर्ड में किसी भी प्रकार की ज्यादा राशि का खर्चा नही होता है।

अकसर लोग इन दोनों की Board की शिक्षा देने की नियम को नही समझ पता है और उन्हें ये कंफर्म करने में टाइम लगता है कि वह अपने बच्चो की दाखिला किस किस बोर्ड में कराए जो सही रहेगा। पेरेंट्स को ये जानना जरूरी है कि किस बोर्ड में किस प्रकार की शिक्षा दिया जाता है और कौन सी शिक्षा बोर्ड में पढ़ाने से अच्छी एजुकेशन मिलेगी।

आज आपको CBSE Board और ICSE बोर्ड दोनों Education Board की Full Information दिया जाएगा। जिससे माता-पिता को ये समझने में आसानी होगी कि वह अपने बच्चों की कैसी भविष्य चाहते है और उस हिसाब से उसे किस बोर्ड में पढ़ाना चाहिए।

CBSE बोर्ड क्या है?

सभी माता पिता को अपने बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर और प्रोफेसर या टीचर बनाना चाहते है। सभी का सपना होता है अच्छी कैरियर और अच्छी नौकरी का। क्योंकि पढ़ाई हम इसीलिए करते है हमें आने वाली जिंदगी में अच्छा लाइफस्टाइल मिल सके। इसके लिए हम अच्छा से अच्छा स्कूल और अच्छा से अच्छा College और बोर्ड में पढ़ना चाहते है। आइये अब हम CBSE बोर्ड के बारे में जानते है।

CBSE का फुल फॉर्म “Central Board of Secondary Education” होती है। सीबीएसई को हिंदी में “केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड” कहा जाता है।

CBSE बोर्ड की स्थापना 3 November 1962 को की गई थी। जिसे भारत सरकार द्वारा नियंत्रित किया जाता है और CBSE बोर्ड भारत के सभी सरकार तथा गैरसरकारी स्कूलों को संचालित करता है।

CBSE बोर्ड का उद्देश्य है कि देश को सही शिक्षा प्रदान कर सके जो आगे डॉक्टर इत्यादि बन सके। ये एक बेस्ट शिक्षा बोर्ड है जिसमें भारत के सभी केंद्रीय विद्यालय, स्वतंत्र विद्यालय, जवाहर नवोदय विद्यालय, और केंद्रीय तिब्बती स्कूल शामिल है।

CBSE में उन लोगों को ज्यादा फायदा है जो लोग सरकारी कर्मचारी और उनका transfer अलग-अलग जिले में होते रहती है। क्योंकि भारत में CBSE की बहुत सारी स्कूल और सभी स्कूलों में एक ही सिलेबस पढ़ाया जाता है इस कारण से transfer होने पर किसी भी CBSE स्कूल में अपने बच्चो का नामांकन करवा सकते है।

CBSE बोर्ड को भारत सरकार से समर्थन प्राप्त है और पूरी स्कूल में लागू भी है  भारत मे अभी 18,000 से ज्यादा स्कूलों में  CBSE बोर्ड की पढ़ाई हो रही है।

CBSE बोर्ड की सिलेबस साल में Update होते रहती ह और CBSE बोर्ड में पढ़ाई करने वालो को scholarship की अच्छी व्यवस्था भी है।

यदि आपको या जो आपके बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर, टीचर, प्रोफेसर, सरकारी जॉब्स, etc। में जाना चाहते है तो कृपया CBSE बोर्ड में पढ़ाई करें। क्योंकि क्योंकि CBSE बोर्ड NCERT पैटर्न पर आधारित है। और भारत मे जितने भी Job संबंधित एग्जाम होती है सभी NCERT पैर्टन पर आधारित होती है।

CBSE बोर्ड में कम Subject के पेपर देने होते है जबकि ICSE में ज्यादा पेपर देने होते है। CBSE लचीला बोर्ड माना जाता है क्योंकि यहाँ राज्य बोर्ड से पड़ने वालो को भी एडमिशन मिल जाती है। साथ ही आपको ये भी बता दु की CBSE बोर्ड ICSE बोर्ड में मुकाबले में थोड़ा आसान है। आइये अब ICSE बोर्ड पर भी नजर डालते है।

ICSE Board क्या है?

ICSE का फुल फॉर्म “Indian Certificate of Secondary Education” होता है। ICSE बोर्ड एक private education board है जिससे भारत सरकार का समर्थन प्राप्त नही है। सभी ICSE School भारत सरकार के अंदर ही आते है परंतु ये विदेश की Curriculum Syllabus वाली Board है।

CBSE एक Professional स्कूल बोर्ड है यहाँ सिर्फ एक ही language English की पढ़ाई की कराई जाती है। इस बोर्ड में राज्य बोर्ड वाले स्टूडेंट का एडमिशन जल्दी नही होता है और न ही किसी मुक्त विद्यालय के छात्रों को एडमिशन मिलती है।

ICSE बोर्ड की सिलेबस जल्दी नही बदलती है और साथ ही ICSE बोर्ड की सभी स्कूलों में अलग-अलग सिलेबस चलती है। इसलिए जो अगर कोई और स्कूल में भर्ती होता है कोई तो उसे एडजस्ट होने में समय लगता है।

भारत मे CBSE शिक्षा बोर्ड की स्कूल बहुत कम है जो हर जगह आसानी से नही मिलता है। साथ ही ICSE बोर्ड में Scholarship की व्यवस्था CBSE के मुकाबले कम है।

जहाँ CBSE बोर्ड Theory and practical दोनों तरह के पढ़ाई करवाती है और दोनों पर खास ध्यान देती है। वही ICSE ज्यादा practical पर फोकस करवाता है।

यदि आपको या आपके बच्चों को Reasearch या विदेश पढ़ाई करने के लिए भेजना चाहते है तो ICSE बोर्ड बेस्ट है। अगर भारत मे ही किसी प्रकार की Job लेना चाहते है तो ICSE सही नही है क्योंकि India में जितने भी एग्जाम होते है सभी NCERT पर आधारित होते है। लेकिन ICSE बोर्ड NCERT की किताबो पर आधारित नही है। आइये आगे जानते है कि दोनों बोर्ड में क्या अंतर है।

CBSE और ICSE बोर्ड में क्या अंतर है?

इन दिनों बोर्ड के बीच मे जितने भी अंतर है मैंने सभी को एक-एक करके बताया है। आइये अब दोनों बोर्ड को एक साथ में जानते है कि ICSE और CBSE बोर्ड में क्या अंतर है।

  • ICSE और CBSE बोर्ड में सबसे पहला अंतर ये है कि CBSE  Government of India से मान्यता प्राप्त बोर्ड है और ICSE सरकार से मान्यता प्राप्त बोर्ड नही है।
  • CBSE बोर्ड की सिलेबस सालों साल Update होते रहती है और ICSE बोर्ड सिलेबस एक ही सिलेबस कुछ दिनों तक चलती है।
  • ICSE बोर्ड के सभी संस्थानों में एक ही सिलेबस पढ़ाई जाती है परंतु ICSE में अलग-अलग स्कूलों में खास प्रकार के सिलेबस बढ़ाया जाता है।
  • CBSE बोर्ड की पूरे भारत मे है लगभग सभी जगह मिल जाएंगे परंतु ICSE बोर्ड की स्कूल बहुत कम है।
  • CBSE में Hindi और अंग्रेजी दोनों माध्यम से पढ़ाई की जाती है और ICSE सिर्फ अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई करवाती है।
  • दोनों बोर्ड में Scholarship की व्यवस्था है परंतु CBSE में थोड़ा ज्यादा मिलती है।
  • ICSE को थोड़ा हार्ड और बेस्ट बोर्ड माना जाता है क्योंकि ये विदेश की सिलेबस पर आधारित है। लेकिन CBSE बोर्ड भारत की NCERT पैटर्न पर आधारित सिलेबस का अध्ययन करवाती है।
  • CBSE बोर्ड theory and practical दोनों पर ज्यादा फोकस करती है। लेकिन ICSE ज्यादा practical पर फोकस करती है।
  • CBSE बोर्ड को लचीला बोर्ड माना जाता है क्योंकि इसमें State Education Board से आये Students को भी Admission मिलती है। जबकि ICSE एक Best High Level Education Board माना जाता है इसमें स्टेट बोर्ड से आये स्टूडेंट को नामांकन नही मिलता है।
  • CBSE बोर्ड में कम सब्जेक्ट की पढ़ाई करनी होती है परंतु ICSE  में ज्यादा subject की पढ़ाई करनी होती है। जैसे कि मैट्रिक में CBSE में सिर्फ 6 सब्जेक्ट की पढ़ाई होती है और ICSE में 12 Subject की पढ़ाई करवाई जाती है।
  • CBSE की पढ़ाई थोड़ा हार्ड होता है और ICSE की पढ़ाई ज्यादा हार्ड होता है।
  • यदि आपको भारत मे ही Government Jobs, Engineer, Doctors बनना है तो CBSE बेस्ट है। और यदि आपको High Level की पढ़ाई विदेश में करनी है और Scientist Researcher बनना है तो ICSE best है।
    State Education Bord क्या है?

आपको बता दे कि ये दोनों बोर्ड जो CBSE और ICSE बोर्ड होती है ये केंद लेवल पर परंतु India में सभी State का अपना खुद का अलग Education Board है। जिसमें सभी प्रकार की पढ़ाई करवाई जाती है। हालांकि जो State Education Board होती है वो Low Level Education प्रोवाइड करवाती है।

इसीलिए लोग CBSE और ICSE में अपने बच्चों को पढ़ाने की कोशिश करते है। State Board में ऐसे बच्चें जो गरीब और जिनके पास ज्यादा पैसे नही होते है उनके लिए State Education Board वरदान साबित होती है। भारत मे सभी State Education Bord की मान्यता है।

AIIMS का फुल फॉर्म क्या है हिंदी में जानें? 
NEET का फुल फॉर्म क्या होता है पूरी जानकारी हिंदी में 
AIIMS क्या है और AIIMS की तैयारी कैसे करें? 
NEET क्या है और नीट की तैयारी कैसे करें? 
10th और 12th का Online Result कैसे देखे? 
Dark Web क्या है? | Deep Web और Surface Web क्या होता है? 

जैसे कि आप सभी को पता होगा कि अभी राज्य शिक्षा बोर्ड की सिलेबस अलग-अलग होती है। ऐसे में किसी राज्य की बोर्ड को अच्छी और किसी राज्य के बोर्ड को कम अच्छा माना जाट है।

लेकिन सरकारी स्कूल की standard किसी राज्य में बेस्ट शिक्षा प्रदान करती है। जैसे ही अभी दिल्ली की सरकारी शिक्षा बोर्ड की हालातो में सुधार आयी है। State Education Board में स्टूडेंट्स को खास तरह की बेनिफिट सरकार के द्वारा मुहैया होता है जैसे कि मध्याह्न भोजन, ड्रेस, मुफ्त किताबें और स्कालरशिप भी देती है।

किस बोर्ड में करवाएं अपने बच्चों का एडमिशन?

जैसा कि मैंने सभी बोर्ड के बारे में पूरी जानकारी दिया गया है अपनी जरूरत, इनकम और इच्छा के अनुसार जिया भी बोर्ड में आपको अच्छा लगता है उस बोर्ड में एडमिशन कराएं। सभी को अच्छी शिक्षा हासिल करने हक है है आइये हम सभी मिलकर भारत को एक पूर्ण रूप से Educated India को सफल करें।

Your Opinion

आपको इस पोस्ट में CBSE बोर्ड और ICSE बोर्ड के बारे में पूरी जानकारी दिया गया है। जैसे कि CBSE और ICSE Board क्या है और दोनों में क्या अंतर है। आपको ये जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं। यदि कोई और भी सवाल है Education Board से Related तो जरूर पूछे। हम आपके सवालों की प्रतीक्षा कर रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here